भारत को आतंक मुक्त राष्ट्र बनाने के लिए मोदी सरकार का एक और हाईटेक कदम !

थर्मल इमेज और नाइट विजन डिवाइस की मदद ली जाएगी। बॉर्डर पर सर्विलांस (निगरानी) राडार भी लगेंगे, जिससे हर एक्टिविटी पर निगाह रखी जा सके। लेजर बैरियर्स लगेंगे ताकि पाक की तरफ से आने वाले आतंकी का पता चल सके। जमीन के अंदर मॉनिटरिंग सेंसर्स बिछाए जाएंगे। हर एक किलोमीटर पर ये सिस्टम लगाने में एक करोड़ रुपए का खर्च आएगा।

सरकार की मानें की इस सीआईबीएम्एस यानि कॉम्प्रिहेंसिव बॉर्डर मैनेजमेंट सिस्टम तकनीक के जरिए 24*7*365 सीमा की निगरानी मुमकिन है। यानि की हर वक़्त सीमा पर नजर रखी जा सकेगी l एक वरिष्ठ अधिकारी की माने तो पठानकोट जैसे हमले, खुसपैठी और तस्करी जैसी सम्साओं के लिए ये एकमात्र समाथान है l

loading...